11 Jul 2018

माओवाद का मनोबल बढाने में जिम्मेदार है गैरजिम्मेदार प्रशासन

By EditorTaaza Khabar

बीजापुर |
जुलाई 12, 2018

बस्तर/बीजापुर@ अब तक नक्सली सुरक्षाबलों को नुकसान पहुँचाने, सड़क काटने, निर्माण कार्य में आगजनी और तोड़फोड़ के लिए जाने जाते रहे हैं, नक्सली बैनर-पोस्टर लगाकर दहशत फैलाने और अपने अस्तित्व को बचाने के लिए सूचना तंत्र को मजबूत करने का काम करते रहे हैं।

इस बार नक्सलियों के दहशत का कारण और डर की वजह बना है भोपालपतनम-बारेगुडा मार्ग पर भोपालपटनम ब्लाक मुख्यालय से महज 2 किलोमीटर दूर बालक आश्रम भोपालपटनम जहाँ की बाउंड्रीवाल में बीते दिनों नक्सलियों ने मार्क्सवाद के दो सौ वीं जयंती को जोर-शोर से मनाने और ब्रह्म्नीय हिन्दू फासीवाद के खिलाफ लड़ने सहित दलित आदिवासियों, मजदूरों पर सरकारी दमन के खिलाफ पुरज़ोर लड़ाई लड़ने की बात लिखी थी, इलाके में दहशत का माहौल है आश्रम में 100 छात्र हैं और शिक्षक स्टाफ हैं मगर कोई भी इस बारे में मीडिया में बात करने को तैयार नहीं है, डर और भय स्वाभाविक है।

शिक्षा सत्र के शुरू हुए तकरीबन एक महीना बीतने को है उसके बावजूद भी आश्रम अधीक्षक, शिक्षा अधिकारी और सहायक आयुक्त ने इस दीवार पर लिखे नक्सली संदेश को मिटाने की जहमत तक नहीं उठायी जबकि सहायक आयुक्त महोदय ने स्वयं कई बार इस मार्ग में निरीक्षण के लिए जाने की बात स्वीकारी है व इस पूरे प्रकरण में सहायक आयुक्त ने जिम्मेदार अधिकारियों पर कार्यवाही करने और शोकाज नोटिस जारी करने की बात कही है।

ऐसी परिस्थितियाँ कहीं नक्सलियों का हौसला बढ़ाने में सचमुच जिम्मेदार तो नहीं..?? यह विचारणीय है।

रिपोर्ट
दिनेश के.जी.
जगदलपुर (बस्तर)

Tag :

Search News

Subscribe our News

Total Visits

1,832,537